हमारे विशय

जब हम मसीहीत के विशय चर्चा करते है तो सामान्य रीती से यह माना जाता है कि यह धर्म, “उपदेशो के मतभेद” के चलते कइ पंथो मे विभाजीत है। किंतु आपसी मतभेद के चलते भी इस धर्म मे कइ पंथ पाये जाते है। इस धर्म के 33000 पंथो के बीच, टी.पी.एम भी एक पंथ है, जीसकी शुरुआत श्रीलंका मे हुइ (पहले इसे सीलोन के नाम से पुकारा जाता था)। इसके बाद दक्षीण भारत मे इसकी विभीन्न शाखाये खुली और फिर यह उतरी भारत मे फैला और धीरे-धीरे यह सम्पुर्ण जगत के देशो मे फैल गया। यह बात हमे अच्छी तरह समझ लेना चाहीये कि यह पंथ एक बडा पशु मे तबदील हो चुका है और अनेक तरह के लोग इसके जाल मे फस चुके है।

यह पंथ (TPM), भारतीय लोगो से भरा है। इसके तकरीबन 90% सदस्य भारत देश के निवासी है। इस संस्थाइक कलीसीया को भारत मे “द पेंटीकोस्टल मीशन” के नाम से जाना जाता है। इसका मुख्यालय (Headquarter) चेन्नइ, भारत मे स्थीत है। अमेरीका मे इसे “न्यु टेस्टमेंट चर्च” कहते है और अन्य देशो मे इसके अन्य नाम है।

इस संस्था के विशय सामन्य जानकारी Wikipedia इस वेबसाइट से मिल सकती है। Wikipedia  पर टि.पि.एम. के विशय दि गइ कुछ जानकारी संदेहस्पद है।

TPM पंथ के धोका देनेवाले उपदेशो का परदा फाश करना हमारी इस इस वेबसाइट www.hindi.fromtpm.com का उद्देश्य है। हमारा उद्देश्य इस संस्था के उन प्रथाओ का भी पर्दाफाश करना है जो परमेश्वर कि कलीसीया से अपरीचीत है। लोगो को बंधन मे डालने कि TPM कि धोका देनेवाली तकनीक का खुलासा करना हमारा लक्षय है। इसके कितने ही सदस्य ऐसे है जो, उनके साथ टि.पि.एम के हाथो हो रहे छल को भाप नही पाते।

यह ब्लोग वेबसाइट TPM के उन विशवासी के एक झुंड के द्वारा शुरु किया गया है और चलाया जाता है, जो एल्वीन (Alwyn) के द्वारा शुरु कि गई इस टि.पि.एम कि पादरी कार्यप्रणाली के गलत प्रणाली को सहते-सहते थक चुके है। हम ठोस रुप से मानते है कि नेक मनुष्यो का चुपचाप बैठे रहना बुराइ कि जीत का एकमात्र कारण है। यदि आपकि ऐसी सोच है कि यह वेबसाइट आपके धार्मीक भावनाओ को ठेस पहुचा रही है तो कृपा करके इस वेबसाइट को बंद कर दे। हमे जीन तथ्यो कि ठोस जानकारी है, हम उसे दुसरो तक उनके भले के लीये पहुचा रहे है। हम आपके भावनाओ को लगनेवाली ठेस के जीम्मेदार नही। यदि आपकी भावनाओ को आघात पहुचा है, तो यह जान ले कि पवीत्र शास्त्र के उपदेशो के साथ होनेवाले खिलवाड को देखकर हमारी भावनाओ को भी गम्भीर पिडाओ का सामना करना पडा है. हम इस बात पर जोर देना चाहते है कि यह वेबसाइट इस संस्था के व्यकतीगत मनुष्यो के अपमान करने के लीये नही बनाइ गइ है, किंतु कुछ घटनो कि सच्चाइ और तथ्यो को सामने लाने के लीये कभी-कबार हमे मजबुरन किसी व्यकती का नाम लेना पडता है। इस वेबसाइट के लेखको का मानना है कि TPM के सेवक और विशासी झुठ के चक्रव्यु मे फसे है। उपदेशो से सबंधी हमारे सारे दावो कि नीव केवल पवीत्र बाइबल होनी चाहीये। यदि आपको ऐसा लगता है कि हम पवीत्र शास्त्र के मार्ग से भटक रहे, तो टिपण्णी भाग मे लीखकर हमे सुचीत करे। आप हमसे admin@fromtpm.com पर समंपर्क कर सकते है।

हम अभीव्यकती कि स्वतंत्रता मे विश्वास करते है। इसीलीये हमने टिपण्णी भाग (comments) को सरहाना, आलोचना और सुधार के लीये रखा है। किंतु ध्यान रहे कि एक सीमा मे रहते हुये अपने शब्दो का चयन करे। यदि आप सीमा को लांघ कर गाली गलोच करोंगे तो टिपण्णी “अभद्र शब्द” कि श्रेणी मे चली जायेंगी और आपकी सुचना किये बगैर कुडे दान मे चली जायेंगी। इसलीये हम सारे सहभागीयो से नीवेदन करते है कि किसी लेख पर टिपण्णी करते समय सभयता और शीश्टता के दायरे मे रहे।