सेवा मे भर्ती के लीये अभीषेक

इस लेख मे मै अपको बताउंगा कि किस तरह से टि.पि.एम संस्था पवीत्र आत्मा कि ठट्टा करती है| मै नही जानता कि आप मे से कितने लोगो ने इंटरनेशनल चेन्नइ सम्मेलन के बाद होनेवाली सेवको के भर्ती कि मीटींग को देखा है| इस मीटिंग के संदर्भ मे टि.पि.एम के सन्यासी सेवक विश्वासीयो से यह क़हते है कि इस सेवाको की भर्ती की प्रकरीया की तसवीर न ले और न उसे इंटर्नेट पर न डाले | अती पवीत्र स्थान मे क्या होता है इसे कोइ नही देखना चाहीये ऐसा बहाना बतलाके यह इसकी तसवीरे खीचने से मनाई कराते है| लेकिन यदि आती पवीत्र स्थान मे जो होता है उसे देखा नही जा सकता तो फिर ये लोग सेवको कि भर्ती की मीटिंग देखने के लीये लोगो को रुकने क्यो कहते है ?

वास्तव मे कैसा होना चाहीये

यीशु ने जब बारह चेलो को चुना तो उसने इस प्रकरीया का दिखवा नही किया | उसने न कोइ बाडा बनाया और न चेलो को बैठने को कहा कि जब उसपर अभीशेक उतरेंगा तो वह जीस पर हाथ रखेंगा वे बारह चुन लीये जायेंगे. येशु ने चेलो को कैसे चुना इसे आप बाईबल मे स्वय पढ ले,

मर्कुस 3:13-14 फिर वह पहाड़ पर चढ़ गया, और जिन्हें वह चाहता था उन्हें अपने पास बुलाया; और वे उसके पास चले आए। तब उस ने बारह पुरूषों को नियुक्त किया, कि वे उसके साथ साथ रहें, और वह उन्हें भेजे, कि प्रचार करें.

वचन मे साफ लीखा है कि उसने बारह को पहाड पर बुलाया और इनके अलावा किसी को नही | उसने एक बडी भीड को नही बुलाया और फिर उनके सामने उसने बारह को बैठने को नही कहा | चेलो की भर्ती एक पहाड पर एकांत मे हुई थी| यदि येशु के चेलो की भर्ती एकांत मे हुई तो फिर टि.पि.एम के सेवक इसका इतना दिखावा क्यो करते है? क्या टि.पि.एम की यह रीत बाइबल पर आधारीत है? आप कहोंगे की पुराने नियम मे याजक का अभीशेक सारी मंडली के सामने हुआ था (लव्य 8)| किंतु टि.पि.एम के लोग कहते है कि ये हारुन कि नाइ सेवक तो है पर हारून की लेवीयों वाली सेवा से श्रेष्ठ सेवा करते है, जो मिल्कीसेदक कि रीती पर है| अब टि.पि.एम हमे ये समझाये कि ये लोग नये नियम कि सेवा पुराने नियम के तौर तरीके से क्यो करते है? नये नियम मे तो यीशु ने मंडली के सामने नही किंतु पहाड पर एकांत मे चेलो को चुना था |  मेरी सोच है कि टि.पि.एम इधर उधर से थोडा-थोडा चुराकर लोगो को आकार्शीत करने के लीये बडा नाटक प्रस्तुत कराते है|

भर्ती कि प्रथा

इस भर्ती कि रसम मे होनेवाली व्यंग भरी बात जीसका आधार पवीत्र शास्त्र मे नही वह ये है कि चीफ पास्टर सेवको पर हाथ रखने के समय कुदने-फांदने लगता है — जैसे कि शरीर मे स्प्रींग़ लगा दिया गया हो| फिर जीनपर हाथ रखा जाता है, उनमे से कुछ अजीबो गरीब तरह से कुदने चिल्लाने और जमीन पर लोटने लगते है | इसे देखकर एक समझदार व्यकती सोच मे पड जाता है कि क्या पवीत्र आत्मा गडबडी का परमेश्वर है? मुझे नही लगता कि पवीत्र आत्मा ऐसा है जैसा टि.पि.एम संस्था उसे पेश करती है| क्योकि यह साफ लीखा है कि क्योंकि परमेश्वर ने हमें भय की नहीं पर सामर्थ, और प्रेम, और संयम की आत्मा दी है (2 तीमुथि 1:7)| संयम कि आत्मा देनेवाला मनुष्य से ऐसी गडबडी कैसे करवा सकता है? मुझे नही लगता कि पवीत्र आत्मा लोगो को बंदर कि तरह हाथ पैर उपर नीचे करवाके करतब करवाता है| इस भर्ती के समय ये लोग किस तरह से उछल कुद करते इसपर आप गौर फ़ारमाइये | ये कुदते है, इधर उधर लात मारते और दुसरो को तकलीफ हो इस ताह से हाथ पैर बेढंगे तरीके से घुमाते है| कुछ लोग जमीन पर लुढकना शुरु कर देते और स्त्रीयो को पता भी नही रहता कि उनके साडी का पल्लु सर से कब हट गया| एक बार एक उम्मीदवार ने दुसरे को लहु लोहान कर दिया| कुछ वर्ष पहले कोटारकरा मे एक उम्मीदवार कि निचली पोशाक कि सिलाइ उधढ गइ | क्या त्रीक्तव का पवीत्र आत्मा इस तरह के अशोभनीय काम करता है? मै जानता कि पवीत्र आत्मा जीसके बारे मे पवीत्र शास्त्र बताता है वह शालीन है, वैसा नही जैसे टि.पि.एम उसे प्रस्तुत करता है|  क्या ये सब पवीत्र आत्मा का ठट्टा उडाना नही ? दुख कि बात है कि लोग इसे इश्वरीय तमाशा समझकर देखने जाते है| ऐसी संस्था से दुर हो जाओ जो पवीत्र आत्मा को इज्जत देने के स्थान पर उसका लोगो के सामने मजाक उडाती है |

नइ भर्ती किये हुये सेवको का जीवन

मार्कुस 3:14  के अनुसार बारह का चयन यीशु के साथ सेवा करने को हुआ था| किंतु टे.पि.एम मे चयन हुये नइ भर्ती को (विशेष कर सीस्टरस को) कठिन कार्य करवाया जाता है| इनका समय यीशु के साथ थोड़ा और कपड़े बर्तन धोने और ऐसे व्यर्थ के काम मे ज्यादा गुजरता है| इनमे से कुछ नइ भर्ती यीशु को प्रसन्न करने के स्थान पर अपने अगुवो कि चमचागीरी कैसे करे यह सीखते है| सीस्टर्स कि तरफ अगुवे प्रेम से पेश आने कि जगह परीश्रम करनेवाले इस्रायेलीयो पर फिरोन के द्वारा ठराये सरदारो के समान पेश आते है| ट्रेनींग सेंटर मे सुबह 6 बजे कि प्रार्थना होती है जीसमे भाग लेना सभी के लीये अनीवर्य है| एक सीस्टर ने इस विशय मे बताया कि उनके साथ किस तरह से अमानवीय व्यवहार किया जाता है| सुबह 6:30 बजे सभी शौचालयो को बंद कर दिया जाता और नौ बजे तक या 9:30 तक कोइ भी इन शौचालय मे नही जा सकता| इनके अगुवे इनके पीछे बैठे रहते कि कोइ शौचालय जाने के लीय उठे तो ये उसे जबरन दोबारा बैठा दे | क्या आपको नही लगता कि यह पशु सरीका व्यवहार है और किसी को बीमार कर सकता है?

धर्मी अपने पशु के भी प्राण की सुधि रखता है, परन्तु दुष्टों की दया भी निर्दयता है (नीती 12:10).

अब इस वचन के अनुसार आप बताये कि ये अगुवे दुष्ट है या धर्मी ? मुझे एक सीस्टर बोली कि सीस्टर्स शौचालय को जाने से बचने के लीये बहुत कम पानी पिया कराती थी | इसके चलते बहुत सी सीस्टर्स रात का खाना नही खाती | सिय्योन के सेवको के भयानक काम देखो! क्या मील्किसेदक कि सेवा ऐसी अमानवीय कृत्य कि मांग करती है? नही! कदापी नही! हमने 2 तीमुथि 1:7 मे पढा कि हमे प्रेम कि आत्मा मीली है| इन बातो के प्रती अंधे न बने, किंतु हर आत्मा को परखकर देखे (1 थीसलु 5:21) कि इन टि.पि.एम के सेवको मे कौनसी आत्मा काम करती है जो अपने से छोटे लोगो से इस तरह का क्रुर व्यवहार करते है? क्या इनमे मसीह कि आत्म है, या फिर कोइ और आत्मा? मुझे पुरा यकिन है कि यीशु का आत्मा उन लोगो से ऐसा क्रुर व्यव्हार न करेंगा जीनके लीये उसने अपने प्राण दिये|

निश्कर्श

मेरे प्रिय मसीह भाइ,

ऐसा सोच कर घबराओ मत कि अभीशीक्त को छुना अच्छा नही! निडर होकर ऐसे कामो के खीलाफ आवाज उठाओ | टि.पि.एम के कट्टरपंथी विश्वासीयों, दुश्ट लोगो को और उनके दुष्टता कि तरफदारी मत करो |  निडर होकर खडे हो जाओ और बंधनो मे पडे लोगो को निर्दइ सरदारो के हाथ से छुडाओ | पीछले इस्टर कि उपवास प्रार्थना कि तरह और भी उपवास प्रार्थना होंगी (यह लेख अंग्रेजी मे एप्रील महीने मे प्रकाशीत हुआ था) | यह उपयुक्त समय कि हम परमेश्वर जैसे चाहता है वैसा अर्थभरा उपवास ले| तभी परमेश्वर हमे आशीश कर सकता है |

जिस उपवास से मैं प्रसन्न होता हूं, वह क्या यह नहीं, कि, अन्याय से बनाए हुए दासों, और अन्धेर सहने वालों का जुआ तोड़कर उन को छुड़ा लेना, और, सब जुओं को टूकड़े टूकड़े कर देना? क्या वह यह नहीं है कि अपनी रोटी भूखों को बांट देना, अनाथ और मारे मारे फिरते हुओं को अपने घर ले आना, किसी को नंगा देखकर वस्त्र पहिनाना, और अपने जाति भाइयों से अपने को न छिपाना? तब तेरा प्रकाश पौ फटने की नाईं चमकेगा, और तू शीघ्र चंगा हो जाएगा; तेरा धर्म तेरे आगे आगे चलेगा, यहोवा का तेज तेरे पीछे रक्षा करते चलेगा (यश 58:6-8).

3 Comments

  1. Praise the lord mera naam Vicky Dharmik hai mujhe tpm ki jankari aur chahiye tpm mein kya kya hota hai kyunki main tpm Church main so jata hoon aur Jo vyakti pasta ke sath raha tha uska naam Saroj brother hai to uske vishay mein bhi Janta hoon thoda to uske vishay mein bhi apne aap ko bataunga

    • sorry hamane bahut di baad reply kiya ..kyoki hindi viewer jyaada nahi to ham ispar kam dhyaan dete hai.

      khair aapko saroj ke baare me kyaa jaankaari hai ?
      kaun hai vo?
      aap hame comment se bataaye ? ham kyoki aapko jaante nahi isliye mobile number share nahi karna chaahte..
      aap comment me likhe

      ya admin@fromtpm.com par mail kare

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*